इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफ (ECG) मशीन के जनक : विललेम एंथोवेन Willem Einthoven पढ़े पूरी बायोग्राफी-

Share:
विललेम एंथोवेन Willem Einthoven (I860 – 1927) इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफ (ECG) मशीन विकसित की – तंत्रिका तंत्र से एक सन्देश मिलने के बाद ह्रदय, रक्त को बाहरपम्प करता है| डच चिकित्सक विललेम एंथोवेन ने इन तंत्रिकीय आवेगों में परिवर्तनों को दर्ज करने के लिए एक मशीन बनाई, जिसकी मदद से बिना शल्य चिकित्सा के इस बात की जाँच की जा सकती थी, की ह्रदय ठीक से कम कर रहा है या नहीं| यह एक साधारण स्ट्रिंग गैल्वेनोमीटर था, जो उन विद्युतीय आवेगों को नापने में सक्षम था जो ह्रदय के संकुचन और फैलने से उत्पन्न होते हैं| चूँकि ह्रदय में यह प्रक्रिया बार-बार होती रहती है, इसलिए इस आवेगों की लहर को दर्ज किया जा सकता है| आज की ECG (Electro Cardio Graph) मशीने आधुनिक हो गयीं हैं, परन्तु ये आज भी उसी सिद्धांत पर काम करती हैं| इसी सिद्धांत पर काम करने वाली EEG (Ecectro Encephalo Graph) मशीन को बाद में विकसित किया गया, जिससे मस्तिष्क के आवेगों को दर्ज किया जा सकता है| विललेम एंथोवेन को इस खोज के लिए 1924 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया|


जीवन में प्रमुख घटनायें एवं प्रमुख वैज्ञानिक योगदान Major Events in Life & Major Scientific Contributions) :-


जन्म – 21 मई 1860, सेमारेंग, जावा, (इंडोनेशिया) मृत्यु – 29, 1927, लीडेन, नीदरलैंड एंथोवेन एक डच चिकित्सक के पुत्र थे, जो डच ईस्ट इंडीज (इंडोनेशिया) में कार्यरत थे| जब वह 6 वर्ष के थे तब उनके पिता की मृत्यु हो गई, और उनकी माँ हालैंड (नीदरलैंड) वापस लौट आयीं| स्कूली शिक्षा के बाद, उन्होंने 1878 में उट्रेच विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया, जहाँ से उन्होंने औषधि विज्ञान का अध्ययन किया| 1886 में वह लीडेन विश्वविद्यालय में फिजियोलॉजी के प्रोफेसर नियुक्त हुए |

एंथोवेन, शारीरिक शिक्षा में बहुत विश्वास करते थे, और स्वयं भी एक अच्छे खिलाडी थे| वह जिमनास्टिक्स और तलवारबाजी संघ के अध्यक्ष भी थे| 1886 में उन्होंने फ्रेडरिक जे. एल. डे. वोगेल से शादी की| उनके इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफ (ElectroCardioGraph) के आविष्कार ने बहुत दिल की बीमारियों का पता लगाने के लिए मानव जाति की बहुत मदद की|