अटेंशन डेफिसिट हायपर एक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) क्या है? आइये जाने

Share:

अटेंशन डेफिसिट हायपर एक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) क्या है?

अटेंशन डेफिसिट हायपरएक्टिविटी यानी एडीएचडी का मतलब ये है कि आप किसी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता का सही इस्तेमाल नहीं कर सकते। माना जाता है कि रसायनों के इस्तेमाल में दिमाग की कमज़ोरी की वजह से ये कमी होती है।

बच्चों में एडीएचडी के लक्षण क्या हैं?

  1.स्कूल और घर पर लापरवाही से ढेरों  मामुली सी गलतियां करना।
  2.  बच्चे द्वारा निर्देशों का पालन ना करना, उन्हें न सुनना और न ध्यान देना
  3.   किसी भी कार्य को सही ढंग से ना करना
  4.   नोटबुक व होमवर्क भूल जाना
  5.  बातें भूलना व चंचल होना
  6.   एक जगह पर ना बैठना, व्याकुल होना
  7.   अपनी बारी का इंतज़ार ना करना, संयम ना होना


वयस्कों में एडीएचडी के लक्षण क्या हैं?

  1.  आसानी से ध्यान हटना
  2.  योजनाबद्ध ना होना।
  3.  बातें भूलना
  4.  बातों को टालमटोल करना
   5. हमेशा देरी करना
   6. हमेशा बोर होना
   7. डिप्रेशन
   8. नौकरी की समस्या
   9. बेचैन होना
   10. ड्रग या किसी और चीज़ की लत होना
   11. रिश्तों से जुड़ी समस्या

एडीएचडी  का इलाज कैसे करें?

बहुत से बच्चों और वयस्कों में इसके लक्षण दिखते है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि उन्हें अटेंशन डेफिसिट हायपरएक्टिविटी (एडीएचडी) है। सिर्फ डॉक्टर इसकी जांच करने के बाद ही ये बता सकते है। एडीएचडी से पीड़ित बच्चों में आम तौर पर 7 साल की उम्र से पहले इस समस्या के लक्षण नज़र आते है और बच्चों में ये समस्या छह महीने से ज़्यादा समय तक रह सकती है। अगर आपको लगता है कि आपमें या आपके बच्चे में ए.डी.एच.डी की समस्या है, तो डॉक्टर से संपर्क करें।

keywords : # adhd. child health, # heathcare,